इस फॉण्ट की एक विशेषता है अक्षर की आकृति और आकार के अनुसार मात्राओं का स्वतः विस्थापन, जिसके कुछ उदाहरण प्रस्तुत हैं | मिथिलाक्षर के "ब" (𑒥) पर अर्धचन्द्र रहता है उसपर चन्द्रबिन्दु लगाने पर ओवरलैपिंग हो जाती है किन्तु इस फॉण्ट में चन्द्रबिन्दु स्वतः विस्थापित होकर उचित स्थान पर चला जाता है :--
𑒥𑒿
:-- परन्तु "ब" (𑒥) पर अनुस्वार का उसी तरह विस्थापन हो तो वह "व" पर चन्द्रबिन्दु (वँ) बन जायेगा, अतः "ब" पर अनुस्वार हो तो ओवरलैपिंग को विस्थापित करके निम्न रूप स्वतः बनता है, जिसके पश्चात "वँ" भी दिया गया है :--
𑒥𑓀 ; 𑒫𑒿
"पंक्ति" के "ङ्क्त" को दो तरह से लिखने के चिह्न इस फॉण्ट में हैं किन्तु केवल पहले रूप को ही सार्वजनिक किया गया है :-- :--
𑒓𑓂𑒏𑓂𑒞 ; 􏮧
ऐसे सैकड़ों स्वचालित विस्थापन तथा संयुक्ताक्षर स्वतः बनते हैं, चाहे मिथिलाक्षर लेखपट्टिका में टाइप करें अथवा इन्टरनेट HTML में किसी वेबसाइट पर | तीन व्यंजनों वाले कुछ संयुक्ताक्षर प्रस्तुत हैं जो टाइप नहीं करने पड़ेंगे, लेखपट्टिका में हलन्त लगाकर टाइप करने पर सारे संयुक्ताक्षर स्वतः टपकेंगे | :--
स्त्य = 𑒮𑓂𑒞𑓂𑒨
त्र्य = 𑒞𑓂𑒩𑓂𑒨
च्छ्र = 𑒔𑓂𑒕𑓂𑒩
स्त्र = 𑒮𑓂𑒞𑓂𑒩
- þ ÿ 􏮦 􏮤
उपरोक्त टाइपफेस भी इसी फॉण्ट में है किन्तु केवल मेरे नाम के लिए ऐसा टाइपफेस है जो केवल टाइपफेस के डिजाईन की विविधता का उदाहरण है |
ª ¦ ª
* * * * * * * * * * * * * * * * * *